FAQ (CMS-ED)

FAQ (CMS-ED)

W.H.O (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अनुसार CMS&ED डिप्लोमा धारक को देश के ग्रामीण क्षेत्र में एक ऐसे स्थान का चुनाव करना चाहिए जहाँ पर स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव हो तथा आवागमन की सुचारु व्यवस्था न हो।
CMS & Ed डिप्लोमा कोर्स करने के बाद आप अपने जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय से अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी कराकर ग्रामीण क्षेत्र में W.H.O. (विश्व स्वास्थ्य संगठन) द्वारा निर्धारित 42 एलोपैथिक दवाइयों का उपयोग करते हुए प्राथमिक उपचार कर सकते हैं।
CMS&ED डिप्लोमा धारक अपने नाम के साथ प्राथमिक उपचारक (First Aid Provider) लिख सकता है।
CMS&ED कोर्स एक डिप्लोमा कोर्स है। इस कोर्स को करने के बाद आपको डिप्लोमा सर्टिफिकेट दिया जाता है। CMS&ED डिप्लोमा धारक अपने नाम के आगे डाँक्टर नही लिख सकता है,
1.ऑनलाइन/ऑफलाइन क्लास दी जाती है| संस्थान द्वा 2.अध्ययनरत छात्र/छात्राओं के रजिस्टर्ड वाट्सप न० पर प्रतिदिन विभिन्न प्रकार की बीमारीयों से सम्बंधित जानकरी दी जाती है| 3.अध्ययनरत छात्र/छात्राओं के रजिस्टर्ड वाट्सप न० पर प्रतिदिन विभिन्न प्रकार की बीमारीयों से सम्बंधित जानकरी दी जाती है|
CMS&ED डिप्लोमा कोर्स की अवधि 18 माह यानि 1 1/2 वर्ष की होती है। Community Medical Service (One Year) & Essentional Drugs (6th Month) Complete 18 Month Community Medical Service (One Year) & Essentional Drugs (6th Month) 6 माह से 1 वर्ष तक किसी पंजीकृत M.B.B.S. चिकित्सक के साथ कार्य करने का अनुभव लेना होगा।
Cms&ed का फुल फार्म होता है “Community medical service and essential drugs” जिसे हिन्दी में “संचार चिकित्सा सेवा और आवश्यक दवा” कहतें हैं।
विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) की अवधारणा के अनुसार प्रत्येक मनुष्य का स्वास्थ्य बनायें रखना ही हमारा मुख्य उद्देश्य है किन्तु हमारे देश में ग्रामीण क्षेत्र में आकस्मिक होने वाली दुर्घटनाओं में दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति तथा अचानक बिमार व्यक्ति को तत्काल प्राथमिक चिकित्सा नही मिलने के कारण उनकी मृत्यु हो जाती है, अथवा गम्भीर स्थितियों का सामना करना पड़ता है इसलिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) द्वारा 1978 में ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार को बेहतर बनाने के लिए (CMS&ED) (Community Medical Service & Essential Drugs)डिप्लोमा कोर्स के प्रशिक्षण हेतु अनुमोदन दिया गया एंव देश की माननीय सर्वोच्च न्यायलय (Suprime Court of India) के आदेश संख्या (152 of 1994 Decided- 14/02/2003) के क्रम में CMS&ED डिप्लोमा धारकों को ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचारक के रुप में प्राथमिक चिकित्सा देने हेतु महत्वपूर्ण दिशा- निर्देश जारी किया गया है। CMS&ED डिप्लोमा धारक विश्व स्वास्थ संगठन (W.H.O) द्वारा अनुमोदित एलोपैथिक की 42 मेडिसिन का उपयोग करते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में प्राथमिक उपचार कर सकतें हैं।